सूक्ष्म , लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय Development Commissioner
Ministry of Micro, Small & Medium Enterprises

Menu

विपणन सहायता


विपणन सहायता

विपणन किसी भी उद्यम की सफलता की कुंजी है और सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) के संबंध में यह बिल्कुल सटीक है। यह क्षेत्र बड़े उद्यमों से भिन्न बाजार में मजबूत ब्रांड उपस्थिति के अभाव और बड़े पैमाने पर असंगठित विपणन नेटवर्क को भी चिन्हित करता है। सीमित संसाधनों के कारण, विदेशी बाजार तक की पहुंच उनकी क्षमताओं के अनुरूप नहीं है।


यह कार्यालय विभिन्न योजनाएं कार्यान्वित कर रहा है जिनका उद्देश्य बाजार में एमएसएमई क्षेत्र के उत्पादों को बेहतर प्रतिस्पर्धात्मकता प्रदान करना है। विपणन सहायता के उद्देश्य का सार मुख्यत: निम्नानुसार है:


(i) विनिर्माण सूक्ष्म एवं लघु उद्यमों (एमएसई) को घरेलू/विदेशी बाजारों का लाभ उठाने और विकसित करने के उनके प्रयासों को प्रोत्साहित करना।

(ii) सूक्ष्म एवं लघु उद्यमों (एमएसई) को राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय बाजार में उत्पादों की विपणनता को बढ़ाने के लिए उत्पादों पर बार कोडिंग को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना।

(iii) विशेषकर एमएसई सार्वजनिक खरीद नीति आदेश, 2012 को ध्यान में रखकर विपणन लिंक को सुविधाजनक बनाना।

(iv) विपणन में पैकेजिंग के महत्व, नवीनतम पैकेजिंग प्रौद्योगिकी, आयात-निर्यात नीति और प्रक्रिया, अंतर्राष्ट्रीय व्यापार में नवीनतम घटनाक्रम इत्यादि के बारे में एमएसएमई क्षेत्र से संबंधित विषयों/पैकेजिंग/विपणन पर अंतर्राष्ट्रीय व राष्ट्रीय कार्यशाला/ संगोष्ठी आयोजित कर एमएसएमई में जागरूकता सृजित करना और उन्हें शिक्षित करना।


योजनाओं का नाम:

सूक्ष्म और लघु उद्यमों के लिए सार्वजनिक खरीद नीति, आदेश- 2012

एमएसएमई के योजना विकास का एक घटक ‘’खरीद और विपणन सहयोग’’ पर अनुमोदित योजना दिशा-निर्देश वर्टिकल 4 – परिचालन से संबंधित।

अंतर्राष्ट्रीय सहयोग (आईसी) योजना दिशा-निर्देश 2018 नई


अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेलों


घरेलू व्यापार मेले


बार कोड


वीडीपी


निर्यात संवर्धन


आईआईटीएफ 2017