अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क (आईएनएसएमई)

अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क की पृष्ठभूमि
अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क की संचालन समिति का गठन
2003-04 में अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क की स्थिति

अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क की पृष्ठभूमि

जून 2000 में आत्मसात किए गए "लघु और मध्यम उद्यम नीतियों पर बोलोना चार्टर" में, लघु और मध्यम उद्यमों पर प्रथम ओईसीडी मंत्रिस्तरीय सम्मेलन में भाग लेने वाले मंत्रियों और देशों की सरकारों के प्रतिनिधियों ने इटली की उस घोषणा का स्वागत किया जिसमें उसने लघु और मध्यम उद्यमों के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय नेटवर्क के संभावित डिज़ाइन और विकास को परिभाषित करने हेतु एक आवश्यकता मूल्यांकन सहित एक संभाव्यता अध्ययन के वित्‍तपोषण और संवर्धन का प्रस्ताव रखा था।.

अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क को लघु और मध्यम उद्यमों के लिए सूचना के प्रसार और गुणवत्ता, सेवा आपूर्ति और भागीदारी अवसरों की सुदृढ़ता तथा वृद्धि के उद्देश्य से नेटवर्कों के हॅब और ढांचे के रूप में कार्य करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क मुख्यत: एक इंटरनेट पोर्टल के सृजन और प्रयोग के जरिए इन उद्देश्यों को जारी रखता है। यह पोर्टल सेवा प्रदाताओं के साथ उनके प्रयोगकर्ताओं की नेटवर्किंग को लक्ष्य बनाएगा क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय, राष्ट्रीय और क्षेत्रीय स्तर पर पहले से मौजूद सेवा प्रदाता प्राय: अपने उपभोक्ताओं तथा एक-दूसरे के मध्य पर्याप्त संपर्क नहीं रखते हैं।

एक समुचित प्रबंधन इकाई के द्वारा, अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क निम्नलिखित उद्देश्यों की पूर्ति में भी योगदान करेगा :

क. एक भौगोलिक, क्षेत्रीय और कार्यात्मक आधार पर कार्यरत लघु और मध्यम उद्यमों के लिए विद्यमान नेटवर्कों के प्रयोग को कनेक्ट विस्तृत और अधिकतम करके, इस प्रकार ऑनलाइन उपलब्ध उत्पादों, सूचना और सेवाओं की संख्या, गुणवत्ता और अद्यतनकरण को उन्नत करके वैश्विकरण से लाभ उठाने में लघु और मध्य उद्यमों को सक्षम बनाना, और सूचना तथा संचार प्रौद्योगिकी में अग्रगण्यता के लाभ द्वारा उनके अंतर्राष्ट्रीयकरण और उनकी संभव समग्रता तथा समन्वय का संवर्धन करना।



ख. स्थानीय स्तर पर पहले से कार्यरत लघु और मध्यम उद्यमों और उनका समर्थन करने वाले मध्यस्थ निकायों के लिए नेटवर्कों के मध्य समन्वय को सुदृढ़ करके उन्हें उन्नत और उनकी आपूर्ति को बेहतर तरीके से परिवर्तित करने के साथ-साथ लघु और मध्यम उद्यम मामलों से कम परिचित देशों तथा भौगोलिक क्षेत्रों की सूचना और सेवाओं तक अधिक पहुंच बनाना।



ग. विशेष रूप से अत्यधिक अभाव वाले देशों में लघु और मध्यम उद्यमों तथा उनके मध्यस्थों के लिए नये नेटवर्कों के विकास, नई वेबसाइटों और इंटरनेट पोर्टलों के सृजन का एक तीव्रकारी प्रभाव के साथ संवर्धन करना।

बोलोना सम्मेलन के बाद, औद्योगिक संवर्धन संस्थान के समर्थन से इटली के उद्योग मंत्रालय ने अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क संभाव्यता अध्ययन के लिए एक विशिष्ट अंतर्राष्ट्रीय संचालन समूह की स्थापना का संवर्धन किया। संभाव्यता अध्ययन के उद्देश्यों और क्षेत्र की पहचान करने, इस विषय में निजी क्षेत्र से निवेश प्राप्त करने तथा संभाव्यता अध्ययन को प्रारंभ करने के तरीकों पर कार्य करने के इच्छुक देशों और अंतर्राष्‍ट्रीय निकायों द्वारा समर्थन से लाभ उठाने के क्रम में जुलाई 2000 में इस संचालन समूह की स्थापना की गई।

अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क संचालन समूह का गठन

जुलाई 2000 में स्वयंसेवी आधार पर अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क संचालन समूह का गठन किया गया। इस संचालन समूह में इटली सरकार और बोलोना सम्मेलन के सह-आयोजक ओईसीडी के साथ-साथ उन देशों और संगठनों जिन्होंने सम्मेलन में भाग लिया था और अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क संभाव्यता अध्ययन तथा इसके परिणामों में रूचि की घोषणा की थी, के प्रतिनिधियों को शामिल किया गया है।

समूह का अध्यक्ष इटली के उद्योग मंत्री द्वारा प्रत्यक्ष रूप में नियुक्त इटली का एक प्रतिनिधि है और इसके कार्यों का समन्वय औद्योगिक संवर्धन संस्थान द्वारा किया जाता है जो समूह का सचिवालय प्रदान करता है।

संचालन समूह के सदस्यों में संभवत: निम्नलिखित विशेषताएं होंगी:-

क. एक राष्ट्रीय लोक प्रशासन (मंत्रालय अथवा एजेंसी) अथवा लघु और मध्यम उद्यम नीति मामलों के साथ संबद्ध एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन अथवा गैर-सरकारी संगठन का सदस्य होना।

ख. लघु और मध्यम उद्यमों और/अथवा लघु और मध्यम उद्यमों को समर्थन करने वाले मध्यस्थ निकायों के लिए नेटवर्कों में विशेषज्ञ होना।

ग. इंटरनेट एप्लीकेशनों, इंटरनेट पोर्टलों की आयोजना तथा प्रबंधन में विशेषज्ञ होना।

अभी तक 41 देश, 17 अंतर्राष्ट्रीय संगठन और 9 नेटवर्क/मध्यस्थ इस समूह में सम्मिलित हो चुके हैं (सूची देखें)। समूह की सदस्यता खुली और लचीली है। अन्य ओईसीडी और गैर-ओईसीडी देशों द्वारा आगामी सहभागिता तथा बोलोना प्रक्रिया में रूचि रखने वाले अंतर्राष्ट्रीय संगठनों और गैर-सरकारी संगठनों का सदैव स्वागत है। भारत एक सदस्य देश है और सीनेट परियोजना अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क के साथ मिलकर काम करती है।

2003-04 में अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क की स्थिति

 औद्योगिक संवर्धन संस्थान की मेज़बानी में अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क सचिवालय के कार्य का उद्देश्य नवाचार तथा प्रौद्योगिकी स्थानांतरण सेवाओं पर ध्यान केंद्रित करते हुए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर एक गैर-लाभकारी संगठन की तरह अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क को एक औपचारिक राजनीतिक और तकनीकी पणधारी समुदाय के रूप में स्थापित करना है। मध्यस्थों और/अथवा उनके नेटवर्कों को विशेष रूप से लक्ष्य करके नई अंतर्क्षेत्रीय और अंतर्देशीय गतिविधियों, परियोजनाओं और वित्तपोषण कार्यक्रमों के संवर्धन के साथ-साथ ज्ञान, विशेषज्ञता और वर्गीकरण में हिस्सेदारी को प्रोत्साहित करने के लिए संगठन इस क्षेत्र में एक खुला, बहुप्रकार्य राजनीतिक संवाद प्रारंभ करेगा। इससे भी बढ़कर समुदाय के सदस्यों के मध्य पारस्परिक लाभों को बढ़ाने और लघु तथा मध्यम उद्यमों के अंतिम लाभ के लिए मध्यस्थों के प्रस्तावों के विशेषीकरण, एकीकरण और अंतर्राष्ट्रीयकरण को बांटने, एक कार्यात्मक दृष्टिकोण के साथ अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क का इस क्षेत्र में संबद्धता, सहयोग और भागीदारी को मजबूत करने का लक्ष्य है।

 आईसीटी के प्रयोग का लाभ लेते हुए, अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क एक सूचना हॅब, एक सुविधाप्रदाता और विद्यमान, संबद्ध मध्यस्थों और उनके नेटवर्कों जोकि नई परियोजनाओं की शुरूआत, स्केल की सहक्रियाओं तथा अर्थव्यवस्थाओं के विकास का संवर्धन कर रहे हैं, के उत्प्रेरक के रूप में कार्य करेगा। आशा है कि 2004 तक नेटवर्क एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन की भांति एक गैर-लाभकारी कानूनी सत्ता का रूप ले लेगा। जून 2004 में इस्तानबूल में द्वितीय ओईसीडी मंत्रिस्तरीय सम्मेलन के अवसर पर संगठन का अधिकारिक शुभारंभ हो सकेगा।

अनुबंध 1

अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क संचालन समूह के सदस्य

देश

अंतर्राष्ट्रीय संगठन और गैर-सरकारी संगठन

नेटवर्क और मध्यस्थ

  1. अल्जीरिया

  2. अर्जेंटीना

  3. ऑस्ट्रेलिया

  4. ऑस्ट्रिया

  5. ब्राजील

  6. कनाडा

  7. चिली

  8. चायनीज़ ताइपे

  9. चैक गणराज्य

  10. मिस्र

  11. फिनलैंड

  12. फ्रांस

  13. जर्मनी

  14. ग्रीस

  15. हंगरी

  16. भारत

  17. इस्राइल

  18. इटली

  19. जापान

  20. मैक्सिको

  21. मोरोक्को

  22. न्यूज़ीलैंड

  23. पाकिस्तान

  24. पोलैंड

  25. पुर्तगाल

  26. कोरिया गणराज्य

  27. रोमानिया

  28. रूस

  29. दक्षिण अफ्रीका

  30. स्पेन

  31. स्वीडन

  32. स्विट्जरलैंड

  33. ट्यूनीशिया

  34. टर्की

  35. वियतनाम

पर्यवेक्षक

  1. डेनमार्क
  2. लग्ज़मबर्ग
  3. मॉरीशस
  4. पराग्वे
  5. सीरिया
  6. यूनाइटेड किंग्डम
  1. डवलपमेंट गेटवे

  2. डेवनेट

  3. इंटर-अमेरिकन डवलपमेंट बैंक (आईएडीबी)

  4. आईकेईडी

  5. ओईसीडी

  6. पीईसीसी

  7. यूएनसीटीएडी

  8. संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन

  9. डब्ल्यूआईपीओ

  10. विश्व बैंक

  1. सीईजीईटीईसी (उरुग्वे)

  2. साइप्रस प्रौद्योगिकी संस्थान

  3. भारतीय लघु और मध्यम उद्यम परिसंघ (भारत)

  4. गैलीशिया ई-कॉमर्स लेवरेजिंग केंद्र (स्पेन)

  5. एमईडीईएफ (फ्रांस)

  6. एसएआरईटीईके (स्पेन)

  7. एसबीसी (कोरिया)

  8. यूएमआईएस-एसएमईए (क्रोएशिया)

  9. वालून बिज़नेस हाउस फॉर यूरोप (बेल्ज़ियम)


अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क वेबसाइट

अंतर्राष्ट्रीय लघु और मध्यम उद्यम नेटवर्क प्रदर्शन